बिलासपुर । महज 20 मिनट की और देर हुई होती तो बिलासपुर की हाईप्रोफाइल मरवाही सीट से कांग्रेस की दावेदारी ही खत्म हो जाती, ऐसा इसलिए क्योंकि पार्टी के प्रत्याशी गुलाब राज को जो बी-फार्म जारी किया गया था, उसमें उम्मीदवार के नाम के सामने का कॉलम खाली छूट गया था। पिता के नाम के स्थान पर प्रत्याशी का नाम टाइप हो गया था।

इसका खुलासा नामांकन जमा करते वक्त हुआ। आनन-फानन में रायपुर से दूसरा बी-फार्म रवाना किया गया। फार्म लेकर आ रहे पार्टी के महामंत्री गिरीश देवांगन की गाड़ी शहर की सीमा में पहुंचते ही रैली की जाम में फंस गई। किसी तरह देवांगन बाइक से कलेक्टोरेट पहुंचे तब तक दो बजकर 40 मिनट हो चुके थे।

ऐसे मची अफरा-तफरी
कांग्रेस के सभी प्रत्याशी शुक्रवार दोपहर एक साथ नामांकन जमा करने कलेक्टोरेट पहुंचे। जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष विजय केशरवानी विधानसभावार आरओ कार्यालय पहुंचकर उम्मीदवारों का बी फार्म जमा करने लगे। जब वे मरवाही आरओ कक्ष पहुंचे और बी फार्म जमा करने पड़ताल की, तब एक बड़ी तकनीकी गलती सामने नजर आई। नेताओ के होश उड़ गए। आनन-फानन में पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल को सूचना दी गई। इसके बाद देवांगन दुर्ग से दूसरा बी फार्म लेकर निकले।

दुर्ग में थे महामंत्री देवांगन
जिस वक्त देवांगन को फोन आया तब महामंत्री दुर्ग ग्रामीण के प्रत्याशी व सांसद ताम्रध्वज साहू को नामांकन भरवा रहे थे। फोन आने के बाद वे बी-फार्म लेकर सड़क मार्ग से रवाना हुए। उनकी कार तिफरा ओवरब्रिज के पास जैसे ही पहुंची नामांकन रैली की भीड़ के चलते जाम में फंस गए।

वहां से वे जिलाध्यक्ष विजय से बात की। विजय ने स्वप्निल शुक्ला को बाइक से लेने भेजा। इसके बाद वे कलेक्टोरेट पहुंचे। तब तक दो बजकर 40 मिनट हो रहा था। विजय उनसे बी फार्म लेकर तत्काल मरवाही आरओ के कक्ष में पहुंचा व गुलाब राज के नाम से जारी बी फार्म जमा किया।