रायपुर 26 सितंबर 20 20

आज के इस मुश्किल वक्त में गुलजार साहब की ये पंक्तियां हौसला देती हैं ’ख्वाब टूटे हैं मगर हौसले जिंदा हैं।
हम वो हैं जहां मुश्किलें शर्मिंदा हैं’।
विश्व के जिन देशों में जैसे न्यूजीलैंड, फिनलैंड, सिंगापुर ,ताइवान दक्षिण कोरिया सभी में एक बात कामन थी कि सभी ने कोविड 19 बीमारी के प्रारंभिक लक्षण होते ही कोरोना टेस्ट करने  को कहा जिससे मरीज के गंभीर अवस्था में पहुंचने से पहले ही उसको इलाज मिल गया। नतीजतन रिकवरी रेट बढ़ा और उससे हुई मृत्यु के आंकड़े भी कम हुए।
यही प्रैक्टिस अगर हमारे प्रदेश में भी शुरू हो जाए कि कोरोना की जांच कराने से लोग न डरंे, सावधानियां बरतें, जांच के बाद खुद को आइसोलेट कर लें, मास्क लगाएं, शारीरिक दूरी बनाए रखें , हाथ धोते रहें और गंदगी न फैलाएं तो यहां भी कोरोना का ग्राफ जल्द ही नीचे होगा,लाॅक डाउन नही लगाना पड़ेगा और हम सब सामान्य जिंदगी जी सकेंगे,
बेखौफ खुली हवा में सांस ले सकेंगे।