Mann Ki Baat: मन की बात कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी- किसानों को अब अपनी मर्जी से फसल बेचने की आजादी, बिचौलियों से मिलेगी मुक्ति

Mann Ki Baat: मन की बात कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी- किसानों को अब अपनी मर्जी से फसल बेचने की आजादी, बिचौलियों से मिलेगी मुक्ति

News

 

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने आज एकबार फिर अपने मन की बात (Mann Ki Baat) कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किया। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारे किसान आत्म निर्भर भारत का आधार हैं। प्रधानमंत्री ने कोरोना काल में कृषि के योगदान की बात करते हुए कहा कि ‘कोरोना संकट के काल में भी कृषि क्षेत्र ने अपना दमखम दिखाया है। देश के किसान, गांव जितना मजबूत होंगे, देश उतना आत्मनिर्भर होगा।’ आपको बता दें कि केंद्र सरकार हाल ही में कृषि से जुड़े तीन विधेयक लेकर आई है जिसका भारी विरोध हो रहा है।

पीएम मोदी ने कहा, ‘देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, हमारे गांव, आत्मनिर्भर भारत का आधार हैं। ये मजबूत होंगे तो आत्मनिर्भर भारत की नींव मजबूत होगी। बीते कुछ समय में इन क्षेत्रों ने खुद को अनेक बंदिशों से आजाद किया है, अनेक मिथकों को तोड़ने का प्रयास किया है।’ पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘हमारे यहां कहा जाता है, जो जमीन से जितना जुड़ा होता है, वो बड़े से बड़े तूफानों में भी अडिग रहता है। कोरोना के इस कठिन समय में हमारा कृषि क्षेत्र, हमारा किसान इसका जीवंत उदाहरण है।’

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि ‘आज, गांव के किसान Sweet Corn और Baby Corn की खेती से, ढ़ाई से तीन लाख प्रति एकड़ सालाना कमाई कर रहे हैं. इन किसानों के अपने फल-सब्जियों को कहीं पर भी, किसी को भी बेचने की ताकत है और ये ताकत ही उनकी इस प्रगति का आधार है। 3-4 साल पहले ही महाराष्ट्र में फल और सब्जियों को APMC के दायरे से बाहर किया गया था. इस बदलाव ने महाराष्ट्र के फल और सब्जी उगाने वाले किसानों की स्थिति बदली है’

प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मन की बात’ में किसान के अनुभवों को साझा करते हुए नए प्रावधानों के बारे में बताया। उन्‍होंने कहा, “मुझे कई ऐसे किसानों की चिट्ठियां मिलती हैं, किसान संगठनों से मेरी बात होती है, जो बताते हैं कि कैसे खेती में नए-नए आयाम जुड़ रहे हैं, कैसे खेती में बदलाव आ रहा है। हरियाणा के सोनीपत जिले के हमारे एक किसान भाई श्री कंवर चौहान जी हैं।

उन्होंने बताया है कि कैसे एक समय था जब उन्हें मंडी से बाहर अपने फल और सब्जियां बेचने में बहुत दिक्कत आती थी। अगर वो मंडी से बाहर, अपने फल और सब्जियां बेचते थे, तो, कई बार उनके फल, सब्जी और गाड़ियां तक जब्त हो जाती थी। लेकिन, 2014 में फल और सब्जियों को एपीएमसी ऐक्‍ट से बाहर कर दिया गया, इसका, उन्हें और आस-पास के साथी किसानों को बहुत फायदा हुआ। आज, श्री कंवर चौहान जी और उनके गांव के किसान स्‍वीट कॉर्न और बेबी कॉर्न की खेती से, ढ़ाई से तीन लाख प्रति एकड़ सालाना कमाई कर रहे हैं।”

bhupendra

Next Post

Bihar Assembly Election 2020: पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे जेडीयू में शामिल

Sun Sep 27 , 2020
Bihar Assembly Election 2020: पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे जेडीयू में शामिल       पटना: बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडे (Gupteshwar Pandey) रविवार को प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी जनता दल यूनाइडेड (JDU) में शामिल हो गए। वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आवास पर गए, जहां अधिकारिक रूप से पार्टी में शामिल […]

Breaking News