भारत ने चीनी खतरे का मुकाबला करने के लिए अपनी इन मिसाइलों को किया तैनात

भारत ने चीनी खतरे का मुकाबला करने के लिए अपनी इन मिसाइलों को किया तैनात

News

नई दिल्‍ली: भारत ने लद्दाख में चीन के साथ चल रहे तनाव को देखते हुए 500 किमी-रेंज की ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल, 800 किमी-रेंज वाली निर्भय क्रूज मिसाइलें और सतह से हवा में मार करने वाली आकाश मिसाइल, जो 40 किमी दूर टारगेट को निशाना बना सकती है, उनको तैनात कर दिया है। भारत के यह अचूक हथियार पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा शिनजियांग और तिब्बत क्षेत्रों में तैनात मिसाइलों को चुनौती देंगी।

हथियारों में भारत का प्रमुख प्रवासन ब्रह्मोस एयर-टू-एयर और एयर-टू-सर्फेस क्रूज मिसाइल है, जिसमें 300 किलोग्राम का वॉरहेड ले जाने की क्षमता है। यह तिब्बत और शिनजियांग में हवाई जहाजों या हिंद महासागर में युद्धपोत को टारगेट करने का दम दम रहती है।

ब्रह्मोस मिसाइल को लद्दाख सेक्टर में पर्याप्त संख्या में तैनात किया गया है, जिसमें Su-30 MKI फाइटर से स्टैंड-ऑफ हथियार पहुंचाने का विकल्प है। इसके अलावा, ब्रह्मोस का उपयोग भारत के द्वीप क्षेत्रों में कार निकोबार एयर बेस का उपयोग करके हिंद महासागर में चोक पॉइंट बनाने के लिए किया जा सकता है। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि भारतीय वायुसेना का कार निकोबार एयर बेस SU-30 MKI के लिए उन्नत लैंडिंग ग्राउंड है, जिसका उपयोग एयर-टू-एयर रिफ्यूलेर्स का उपयोग कर सकते हैं, जोकि इंडोनेशिया भर में मलक्का के स्ट्रेट से सुंडा स्टाटन तक आने वाले किसी भी पीएलए युद्धपोत के खतरे से सुरक्षा प्रदान करता है।

निर्भय उप-प्रक्षेपास्त्रों की सीमित संख्या का उत्पादन और तैनाती की गई है। इस हथियार प्रणाली की एक सीमा है जो 1,000 किमी तक पहुंच सकती है और इसमें समुद्री स्किमिंग व लोइटरिंग क्षमता दोनों हैं। इसका मतलब है कि यह मिसाइल जमीन से 100 मीटर से चार किमी के बीच उड़ान भरने में सक्षम है और इसे उलझाने से पहले लक्ष्य को भेद सकती है। निर्भय मिसाइल का केवल सतह से सतह संस्करण है।

भारतीय सेना द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला तीसरा स्टैंड-ऑफ हथियार आकाश एसएएम है, जिसे लद्दाख सेक्टर में एलएसी के पार किसी भी पीएलए विमान घुसपैठ का मुकाबला करने के लिए पर्याप्त संख्या में तैनात किया गया है। अक्साई चिन के कब्जे में पीएलए वायु सेना की लड़ाकू गतिविधि कम स्तर पर जारी है। हालांकि, काराकोरम दर्रे के पास दौतल बेग ओल्डी सेक्टर में पीएलए हवाई गतिविधि को लेकर चिंता है।

अपने तीन आयामी राजेंद्र के साथ आकाश मिसाइल एक निष्क्रिय इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्कैन की गई रडार है जो एक समय में 64 लक्ष्यों को ट्रैक करने और साथ ही उनमें से 12 को मार गिराने की क्षमता रखती है। मिसाइल में लड़ाकू विमानों, क्रूज मिसाइलों और बैलिस्टिक मिसाइलों सहित सभी हवाई लक्ष्यों को शामिल करने की क्षमता है।

bhupendra

Next Post

दिव्यांगजन विवाह प्रोत्साहजन योजना के लिए आवेदन आमंत्रित

Mon Sep 28 , 2020
दिव्यांगजन विवाह प्रोत्साहजन योजना के लिए आवेदन आमंत्रित रायगढ़, 28 सितम्बर2020/ समाज कल्याण विभाग द्वारा दिव्यांगजनों के लिये संचालित दिव्यांगजन विवाह प्रोत्साहन योजना के लिए आवेदन आमंत्रित किया गया है। पात्रता रखने वाले दम्पत्तियों से आग्रह किया गया है कि योजना का लाभ लेने हेतु ऑनलाईन अथवा अपने जनपद पंचायत […]

You May Like

Breaking News