काले कानून के खिलाफ किसान आंदोलन होगा सघन, 2 अक्टूबर को किसान सत्याग्रह 3 से 13 अक्टूबर किसान बइठका,  14 अक्टूबर से सांसद घेराव शुरू

काले कानून के खिलाफ किसान आंदोलन होगा सघन, 2 अक्टूबर को किसान सत्याग्रह

3 से 13 अक्टूबर किसान बइठका,  14 अक्टूबर से सांसद घेराव शुरू

किसान विरोधी काला कानून के खिलाफ आंदोलन की रणनीति बनाने को लेकर छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ से सम्बद्ध 25 से अधिक किसान-सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि राजधानी में एकत्रित हुए ।

बैठक की अध्यक्षता पूर्व विधायक एवम छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष जनकलाल ठाकुर ने की । बैठक में लिये गये निर्णय की जानकारी देते हुए श्री ठाकुर बताया कि किसान कानून के विभिन्न पहलुओं पर विचार-विमर्श करने के बाद किसान नेताओं ने निष्कर्ष निकाला कि यह कानून किसान विरोधी तो है ही इससे अब छत्तीसगढ़ के किसानों पर कार्पोरेट्स का कब्जा हो जाएगा । साथ ही यह आशंका भी व्यक्त की गई प्रदेश के किसानों को भविष्य में धान की शासकीय खरीदी रु 2500 प्रति क्विंटल की दर से नहीं हो पायेगी ।

अतः प्रदेश भर में वृहद आंदोलन देश के राष्ट्रीय किसान आंदोलन के साथ प्रारम्भ किया जायेगा । इसकी शुरुआत 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती पर किसान सत्याग्रह से होगी । इस दिन प्रदेश के किसान रायपुर में आज़ाद चौक स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने एक दिवसीय उपवास पर रहेंगे । इसके पश्चात राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के नाम से किसान कानून को वापस लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कृषि उपज खरीदी को कानून बनाने की मांग होगी । इसी दिन मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ के नाम से ज्ञापन देकर 1 नवम्बर से धान की शासकीय खरीदी रु 2500 प्रति क्विंटल की दर से प्रारम्भ करने की मांग और किसान विरोधी काले कानून के खिलाफ विधानसभा का विशेष सत्र बुलाये जाने की मांग की जायेगी ।

bhupendra

Next Post

हैल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के नियमों में होने जा रहे हैं ये बड़े बदलाव

Wed Sep 30 , 2020
हैल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के नियमों में होने जा रहे हैं ये बड़े बदलाव       नई दिल्ली: भारत में तेजी से हैल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी (Health Insurance Policy) की डिमांड बढ़ रही है। अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने के बाद भी यदि हॉस्पिटल पहुंचने पर भारी भरकम बिल भरना पड़े, तो […]

You May Like

Breaking News