Indian Air Force Day: वायुसेना दिवस आज, राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री समेत तमाम लोग साहस और शौर्य को कर रहे हैं सलाम

Indian Air Force Day: वायुसेना दिवस आज, राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री समेत तमाम लोग साहस और शौर्य को कर रहे हैं सलाम

News

नई दिल्ली: आज भारतीय वायुसेना का 88वां स्थापना दिवस है। इस मौके पर गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर समारोह का आयोजन किया जा रहा है। भारतीय वायुसेना की स्थापना आठ अक्टूबर 1932 को की गई थी। स्थापना दिवस को वायु सेना दिवस के रूप में भी जाना जाता है। वायुसेना आज अपना 88वां स्थापना दिवस मना रही है।

सेना की तीनों टुकड़ियों के प्रमुख के अलावा कई वरिष्ठ अधिकारियों के साथ-साथ  CDS बिपिन रावत भी कार्यक्रम में मौजूद हैं। इस दौरान पहला बार गेमचेंजर राफेल उड़ान भरेगा तो वहीं तेजस, सुखोई, जगुआर और मिराज 2000 लड़ाकू विमान भी जौहर दिखाएंगे। अटैक हेलीकॉप्टर अपाचे और मिग 35 भी आसमान में करतब दिखाएंगे। इस फ्लाई पास्ट में 56 एयरक्राफ्ट हिस्सा ले रहे हैं। जिसमें 19 फाइटर प्लेन और 19 हेलीकॉप्टर शामिल हैं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘वायुसेना दिवस के मौके पर हम अपने वायु योद्धाओं, दिग्गजों और भारतीय वायुसेना के परिवारों का गौरवान्वित होकर सम्मान करते हैं। हमारे आसमान को सुरक्षित बनाने और मानवीय सहायता और आपदा राहत में नागरिक अधिकारियों की सहायता करने के लिए राष्ट्र वायुसेना के योगदान के लिए ऋणी है।’

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वायुसेना को बधाई दी है। पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा कि एयर फोर्स डे पर भारतीय वायुसेना के सभी वीर योद्धाओं को बहुत-बहुत बधाई। आप न सिर्फ देश के आसमान को सुरक्षित रखते हैं, बल्कि आपदा के समय मानवता की सेवा में भी अग्रणी भूमिका निभाते हैं। मां भारती की रक्षा के लिए आपका साहस, शौर्य और समर्पण हर किसी को प्रेरित करने वाला है।

-रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी वायुसेना दिवस पर वायु सैनिकों और उनके परिवारों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि राष्ट्र को नीली जर्सी वाले अपने पुरुषों और महिलाओं पर गर्व है और भारतीय वायुसेना की प्रगति को सलाम करता है क्योंकि यह चुनौतियों का सामना करने और प्रतिकूल परिस्थितियों के लिए हमेशा तैयार रहता है।

आपको बता दें कि भारतीय सेना दुनिया की सबसे पुरानी वायुसेना में गिनी जाती है। यह दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायु सेना है। भारतीय सेना की ताकत का बदला रूप इस बात से ही अंदाजा लागाय जा सकता है कि सेना अब अपने दुश्मन देश चाहे पाकिस्तान हो या फिर चीन किसी को भी करारा जवाब देने की हिम्मत रखती है।

भारतीय वायुसेना को आजादी से पहले रॉयल इंडियन एयरफोर्स के नाम से जाना जाता था। 1950 के बाद इसमें से रॉयल शब्द हटाकर इंडियन एयर फोर्स कर दिया गया। 8 अक्टूबर, 1932 को आईएएफ जो भारतीय सशस्त्र बलों की वायु शाखा है को रॉयल इंडियन एयर फ़ोर्स के रूप में बनाया गया था। ब्रिटिश शासन से भारत की स्वतंत्रता के बाद आगे लगे जाने वाले उपसर्ग ’रॉयल’ को समाप्त कर दिया गया था। इसका प्राथमिक मिशन भारतीय हवाई क्षेत्र को सुरक्षित करना और सशस्त्र संघर्ष के दौरान हवाई युद्ध करना है।


bhupendra

Next Post

एक युवक ने फांसी लगाकर जान गँवाई,वहीँ दूसरे युवक की करेंट की चपेट में आने से हुई मौत @छाल पुलिस सघन जांच में जुटी

Thu Oct 8 , 2020
एक युवक ने फांसी लगाकर जान गँवाई,वहीँ दूसरे युवक की करेंट की चपेट में आने से हुई मौत @छाल पुलिस सघन जांच में जुटी   असलम आलम खान ब्यूरो हेड धरमजयगढ़ – विकासखंड के छाल थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम छाल बस्ती में बुधवार की सुबह दो अलग – अलग घटना […]

You May Like