LAC पर मिसाइल शौर्य को तैनात करेगा भारत, चीन-पाक की बंध रही है घिग्घी

LAC पर मिसाइल शौर्य को तैनात करेगा भारत, चीन-पाक की बंध रही है घिग्घी

News

 

नई दिल्‍ली: हिंदुस्तान ने जिस शौर्य मिसाइल का तीन दिन पहले टेस्ट किया है, अब वो ड्रैगन की चालबाजी पर नजर रखेगी। भारत की ये मिसाइल बॉर्डर पर तैनात होने जा रही है। दरअसल, इस मिसाइल को भारत ने चीन के लिए ही बनाया है। एलएसी पर युद्ध जैसे हालात हैं, इसलिए अब वक्त आ गया है कि इसे बॉर्डर पर तैनात करने का। ताकि ये मिसाइल चीन का दम बिगाड़ दे।

जमीन से जमीन पर मार करने वाली शौर्य मिसाइल का 3 दिन पहले ही सफल परीक्षण हो चुका है। सबसे नई और लेटेस्ट रिपोर्ट ये है कि ये मिसाइल सेना में शामिल हो चुकी है, बल्कि सरहद पर तैनात होने जा रही है। मोदी सरकार ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है। इंडियन स्ट्रेटजिक फोर्स कमांड ने लोकेशन्स की पहचान कर ली है। यहां जल्द ही शौर्य को डिप्लॉय कर दिया जाएगा।

भारत एलएसी पर ब्रह्मोस, निर्भय और आकाश जैसी घातक मिसाइलों को वॉर रेडी कर चुका है। माना जा रहा है कि सेना शौर्य मिसाइल को भी लद्दाख के फार्वर्ड लोकेशन पर तैनात करेगी। मतलब ये कि अगर चीन कोई चाल चलेगा, तो ये चारों मिसाइलें मिलकर उसे तबाह कर देंगी। भारत जिस शौर्य मिसाइल को बॉर्डर पर भेजने जा रहा है वो परमाणु क्षमता से लैस बैलिस्टिक मिसाइल है।

शौर्य मिसाइल जमीन से जमीन पर मार करती है। दुश्मन पर सबसे घातक प्रहार करती है। इसकी रेंज 800 किमी है। मतलब ये 800 किमी दूर से ही दुश्मन की कब्र खोद देने का माद्दा रखती है। ये एक बैलिस्टिक मिसाइल है, जो परमाणु हथियार लेकर जा सकती है और दुश्मन को एक झटके में तबाह कर सकती है।

इस मिसाइल को भारत ने चीन जैसे दुश्मन के लिए बनाया है। इसकी जद में चीन के सभी बड़े शहर आते हैं। यानि भारत जब चाहे, इसी एक मिसाइल से चीन को बर्बाद कर सकता है।

ये पनडुब्बी से लॉन्च की जाने वाली बैलिस्टिक मिसाइल का जमीनी रूप है। इसे जमीन के साथ-साथ पानी के अंदर से भी दागा जा सकता है। शौर्य वजन में बहुत ही हल्की है और इस्तेमाल करने के लिहाज से बहुत ही आसान। टू-स्टेज रॉकेट वाली ये मिसाइल 40 किलोमीटर की ऊंचाई तक पहुंचने से पहले आवाज की 6 गुना रफ्तार से चलती है। उसके बाद ये टारगेट की तरफ बढ़ती है।

मिसाइल की रफ्तार इतनी तेज है कि दुश्मन के रडार को इसे डिटेक्ट, ट्रैक और इंटरसेप्ट करने के लिए 400 सेकेंड्स से भी कम वक्त मिलेगा। शौर्य मिसाइल को जमीन के अंदर छिपाकर रखा जा सकता है। दुश्मन इसके बारे में तब तक नहीं पता लगा पाएंगे, जब तक कि इसे फायर नहीं किया जाता। इसका पता ना तो सैटेलाइट लगा पाते हैं, ना ही रडार। इसे कहीं भी आसानी से छिपाकर ले जाया जा सकता है। लंबे समय तक स्टोर करके भी रखा जा सकता है।

bhupendra

Next Post

Indian Air Force Day: वायुसेना दिवस आज, राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री समेत तमाम लोग साहस और शौर्य को कर रहे हैं सलाम

Thu Oct 8 , 2020
Indian Air Force Day: वायुसेना दिवस आज, राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री समेत तमाम लोग साहस और शौर्य को कर रहे हैं सलाम     नई दिल्ली: आज भारतीय वायुसेना का 88वां स्थापना दिवस है। इस मौके पर गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर समारोह का आयोजन किया जा रहा है। भारतीय वायुसेना की स्थापना आठ अक्टूबर […]

You May Like

Breaking News