राजस्थान के करौली में पुजारी के साथ हुए हत्याकांड के विरोध में देश और दुनिया से आवाजें हो रही बुलन्द-* *अमेरिका के ब्राम्हण संगठन ने भी किया विरोध राजस्थान सरकार के खिलाफ पिटीशन की तैयारी- आरती वैष्णव

🎯राजस्थान के करौली में पुजारी के साथ हुए अनाचार के विरोध में देश और दुनिया से आवाजें हो रही बुलन्द-*
*🎯अमेरिका के ब्राम्हण संगठन ने भी किया विरोध राजस्थान सरकार के खिलाफ पिटीशन की तैयारी- आरती वैष्णव*
*छत्तीसगढ़-* राजस्थान के करोली में पुजारी को जिंदा जला देने की घटना बहुत ही निंदनीय है।ऐसे जघन्य अपराधों के लिए सरकार को कड़े से कड़े कदम उठाने ही चाहिए।साथ ही संविधान में जो प्रावधान है उसके तहत भी शीघ्रता से कार्यवाही होनी चाहिए।
मंदिर के देख रेख करने वाले पुजारी को मिली जमीन छोटे से जमीन के टुकड़े पर भी जमीन दलालों व माफियाओं की गिद्ध नजर रहती है।यह घटना भी इसी तरह है,मंदिर में भगवान की पूजा सेवा करने वाले ब्राम्हण, वैष्णव पुजारी को मिले छोटी सी जमीन पर गांव के दबंगों की नजर थी,जिस पर कब्जा किया जा रहा था,जिसका विरोध उस गरीब पुजारी ने किया तो उन्हें उस विरोध के बदले में मौत के घाट उतार गए ये गुंडे।निर्ममता से पुजारी को जला कर मार दिया गया।इस घटना को एक बार कल्पना भी कर लेने से रूह कांप उठती है आमजन मानस की फिर उन गुंडों को कैसे कानून तक का भय नही रहा यह विचारणीय है?क्या राजस्थान में दबंगों गुंडों को तनिक भी कानून का भय नही है?
इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी राजस्थान सरकार और स्थानीय प्रशासन अब तक सभी अपराधियों गुंडों को पकड़ पाने में असफल है।देश भर में जब पुरजोर विरोध हुआ,जब 48 घण्टे पूरा परिवार व ग्रामवासी भूख हड़ताल किये तब जाकर सरकार ने 10 लाख मुआवजे का ऐलान किया।लेकिन इस मुआवजे से उस परिवार को न्याय नही मिला है।सभी गुंडों को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नही कर पाई है,परिवार अभी भी असुरक्षित है, परिवार इतनी दहशत में है कि वो गांव छोड़ देने की बातें करने लगे थे।जब देश भर से समर्थन व सहयोग मिला तब जाकर परिवार में हिम्मत आया है।आज भी पत्नी की हालत बेहद नाजुक है रह रहकर बेहोश हो रही है।
राजस्थान सरकार की असंवेदनशीलता के किस्से पूरे देश मे चर्चा का विषय बना हुआ है,परिवार को कोई सुरक्षा न देना,दबंगों पर कार्यवाही न करना,कही न कही परिवार की सुरक्षा में बड़ा प्रश्न चिन्ह लगा रहा है।राजस्थान सरकार को पुजारी परिवार की पूर्ण सुरक्षा की जिम्मेदारी लेते हुए तत्काल सभी गुंडों को कड़ी से कड़ी सजा देनी चाहिए।ऐसा नही होने से पूरे देश दुनिया मे राजस्थान सरकार की किरकिरी हो रही है।
भारत भर में तीव्र विरोध के साथ साथ अब विदेश में भी जघन्य अपराध के विरोध में स्वजातीय संगठन आवाज बुलंद कर रहें है।अमेरिका से डॉ
ओम प्रकाश शर्मा ने ब्राम्हण संघ को एकत्र कर इसकी निंदा की है।और कहा है गहलोत सरकार अगर इस पर कड़ी कार्यवाही नही करती है तो,हम सरकार के खिलाफ ऑनलाईन रीट पिटीशन दायर करेंगे।
इस घटना के विरोध में देश विदेश सहित दुनिया मे आवाज बुलंद हो रही है राजस्थान सरकार के असंवेदनशील व्यवहार,पुजारी के निर्मम हत्या करने वालों के खिलाफ मुखर नही होने पर,संतोषप्रद सहयोग नही करने का पुरजोर विरोध देश सहित दुनिया मे होने लगा है।छत्तीसगढ़ के सक्रिय सामाजिक संगठन श्री वैष्णव महासभा ने भी पुजारी को न्याय दिलाने आवाज बुलन्द किया है, आर्थिक सहायता भी कर रहें हैं।
गरीब पुजारी परिवार के साथ देश भर के ब्राम्हण वैष्णव संगठन, सामाजिक संगठन,देश की मीडिया एकजुटता के साथ लड़ रहे हैं।वही सोशल मीडिया में घटना के विरोध में लोग एक स्वर में विरोध कर रहें है।

bhupendra

Next Post

पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती 436 दिन बाद हुईं रिहा

Tue Oct 13 , 2020
पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती 436 दिन बाद हुईं रिहा       नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) को मंगलवार को हिरासत से रिहा कर दिया गया। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की चीफ और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती महबूबा 436 दिन बाद रिहा हुई हैं। वह एक साल, दो […]

You May Like