IPL सट्टा गैंग का भंडाफोड़, 4.20 करोड़ कैश, नोट गिनने की 2 मशीनें और 9 मोबाइल जब्त

IPL सट्टा गैंग का भंडाफोड़, 4.20 करोड़ कैश, नोट गिनने की 2 मशीनें और 9 मोबाइल जब्त

News

जयपुर: राजस्थान में आईपीएम क्रिकेट सट्टे की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई सामने आई है, जिसमें करीब 4 करोड़ 20 लाख रुपये नकद जब्त हुए है। पिछले 15 दिनों में राजस्थान पुलिस की सटोरियों के खिलाफ यह दूसरी कार्रवाई है। इससे पहले राजस्थान ATS ने 11 अक्‍टूबर को जयपुर, नागोर, हैदराबाद, दिल्ली और मुंबई में छापेमारी करके 14 से भी अधिक सटोरियों को गिरफ्तार करने की बड़ी कारवाही की थी।

ताजा मामले में सटोरियों ने 30 व्हाट्स अप ग्रुप बनाकर इस कदर क्रिकेट पर सत्ता लगाने का खेल खेला कि मौके से पुलिस को रुपये गिनने वाली 2 मशीने भी जब्त हुई है। अब पुलिस के सामने यह बड़ी चुनौती है कि आखिरकार 4 करोड़ तक की रकम लगाने वाले लोग-कौन कौन हैं।

सटोरियों का यह खेल कितना बड़ा रहा होगा, इसका अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि कई करोड़ रूपये के हिसाब-किताब के साथ मौके से पुलिस को 4 करोड़ 20 लाख रूपये नकद और उन्हें गिनने के लिए दो नोट गिनने की मशीनें के साथ 9 मोबाइल फोन बरामद हुए हैं। जानकारी में यह बात भी सामने आई है कि राजस्थान के साथ-साथ गुजरात में भी ये लोग कई लोगों को सट्टा खिला रहे थे।

इस मामले में पुलिस ने गुजरात के राजकोट निवासी रणधीर सिंह और किशनगढ़ के रहने वाले कृपाल सिंह को पकड़ा। ये दोनों रिश्तेदार हैं, जिन्होंने भांकरोटा निवासी टोडरमल राठौड़ व झुंझुनूं के मुकुन्दगढ़ निवासी ईश्वर सिंह के साथ शामिल होकर क्रिकेट के मैदान के बाहर रुपयों का यह पूरा खेल खेला। आरोपी रणधीर और कृपाल से बरामद किए गए मोबाइलों की जांच की तो इनके संपर्क देश के कई बड़े सटोरियों के साथ भी सामने आए और ये लोग IPL शुरू होने के साथ ही उनके साथ संपर्क में थे।

जांच के दौरान यह बात भी सामने आई है कि दोनों के मोबाइल में एक वेबसाइट के जरिए सट्टे की आईडी चल रही थी। यही नहीं 30 से ज्यादा व्हाट्सअप ग्रुप बनाकर वाट्सएप चैटिंग में सट्टे के हिसाब की पर्चियां भेजी हुई जा रही थी। आरोपी बुकी के बारे में यह भी पता चला है कि किशनपोल बाजार में ऑफिस बनाकर हवाले का काम करते है। बहरहाल इनसे जब्त फोन और इनसे हो रही पूछताछ के जरिये इनके संपर्कों की जांच की जा रही है। इस बात का भी पता लगाया जा रहा है कि क्या ये मेच फिक्सिंग के काम में भी शामिल है या नहीं?


bhupendra

Next Post

कालाबाजारी के कारण बढ़ रहे प्याज के दाम, किसानों को नहीं कोई फायदा

Thu Oct 22 , 2020
कालाबाजारी के कारण बढ़ रहे प्याज के दाम, किसानों को नहीं कोई फायदा     मुंबई: देश में प्याज के एक्सपोर्ट पर पाबंदी है और इंपोर्ट चालू है। इसके बावजूद प्याज कि कीमतें आसमान छूने लगी है। रिटेल मार्केट में प्याज की कीमत 100 रुपए किलो पहुंच गई है। मुंबई और उसके […]