BJP की राज्यसभा में 92 सीटों पर नजर, सबसे कम सीटों पर सिमट गई कांग्रेस

POLITICS

BJP की राज्यसभा में 92 सीटों पर नजर, सबसे कम सीटों पर सिमट गई कांग्रेस

उत्तर प्रदेश की 10 खाली सीटों और उत्तराखंड की एक सीट पर 9 नवंबर को राज्यसभा चुनाव होगा और इसके दो दिन बाद नतीजे घोषित किए जाएंगे। 403 सीटों वाली उत्तर प्रदेश विधानसभा में बीजेपी के 304 सदस्य होने के साथ, राज्य की दस सीटों पर होने वाला चुनाव भगवा पार्टी को उच्च सदन में सबसे मजबूत स्थिति में पहुंचा देगा, जिसमें से उसके आठ सीटों पर निर्विरोध जीतने की संभावना है।

बीजेपी के उत्तर प्रदेश में आठ से नौ राज्यसभा सीटें जीतने की संभावना है, जबकि यूपी की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी- समाजवादी पार्टी, विधानसभा में 48 सदस्यों के साथ केवल एक सीट सुरक्षित कर सकती है। उत्तराखंड विधानसभा में भी बीजेपी का बहुमत देखते हुए, इसके वो एक खाली सीट जीतने की भी संभावना है।

इसके और तीन बीजेपी सांसदों को देखते हुए जो सेवानिवृत्त हो रहे हैं, राज्यसभा में सत्तारूढ़ दल की संख्या बढ़कर 92 हो जाएगी और एनडीए की संख्या 112 तक बढ़ जाएगी – बहुमत के निशान से मात्र 10 सीटों से कम। कांग्रेस 38 सीटों के साथ सबसे कम सीटों पर सिमट जाएगी।

वर्तमान में 245 सदस्यीय उच्च सदन में तीन वेकेंसी हैं, जिनमें से एक केरल, एक उत्तर प्रदेश और एक बिहार से है। 25 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे उत्तर प्रदेश के दस राज्यसभा सदस्यों में बीजेपी के तीन – केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, अरुण सिंह और नीरज शेखर शामिल हैं। चार सेवानिवृत्त सपा सांसद चंद्रपाल सिंह यादव, राम गोपाल यादव, राम प्रकाश वर्मा और जावेद अली खान हैं, जबकि बसपा के दो सांसद – राजाराम और वीर सिंह के कार्यकाल समाप्त हो रहे हैं। साथ ही कांग्रेस के पीएल पुनिया भी रिटायर हो रहे हैं।

एनडीए की संख्या के अलावा, बीजेपी हाल के दिनों में बीजू जनता दल, तेलंगाना राष्ट्र समिति और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी जैसे अन्य दलों के समर्थन पर निर्भर रही है। एक साथ, ये तीनों 22 सांसदों का एक ब्लॉक बनाती है। 2020 के शीतकालीन सत्र तक कुछ अन्य लोगों को जोड़कर, एनडीए 150 सांसदों के समर्थन की उम्मीद कर सकता है, जिससे पार्टी के लिए विवादास्पद संविधान संशोधन बिल पारित करना आसान हो जाएगा जिसके लिए दो-तिहाई बहुमत की आवश्यकता होती है (245 में से 164 सांसद)।

हाल ही में बीजेपी ने अपने दो सहयोगियों – शिवसेना और अकाली दल को भी खो दिया है, जिनके कुल 6 सांसद हैं और कुछ साल पहले वह टीडीपी और पीडीपी का भी समर्थन खो चुके हैं।

मई 2014 में, जब बीजेपी एक दशक के बाद केंद्र में सत्ता में लौटी, तो एनडीए के उच्च सदन में सिर्फ 65 सदस्य थे, जबकि कांग्रेस और उसके सहयोगियों के पास 102 थे, जिसके कारण मोदी सरकार को लोकसभा में दशकों में सबसे बड़ा जनादेश हासिल करने के बावजूद विधान सभाओं में कानून पारित करने के लिए बाधाओं का सामना करना पड़ा।

bhupendra

Next Post

BOLLYWOOD NEWS दीपिका की मैनेजर ने नहीं दिया NCB के समन का जवाब, अब KWAN के कर्मचारियों को बुलाया

Tue Nov 3 , 2020
BOLLYWOOD NEWS दीपिका की मैनेजर ने नहीं दिया NCB के समन का जवाब, अब KWAN के कर्मचारियों को बुलाया बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा प्रकाश को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) द्वारा एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स केस में दो बार समन भेजा गया है। […]