Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/amannewscg/public_html/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

कांग्रेस के ‘चाणक्य’ माने जाने वाले अहमद पटेल के निधन पर सोनिया गांधी ने ऐसे जताया शोक, कही ये बातें

कांग्रेस के ‘चाणक्य’ माने जाने वाले अहमद पटेल के निधन पर सोनिया गांधी ने ऐसे जताया शोक, कही ये बातें

News

नई दिल्लीः  पिछले तीन दिनों में कांग्रेस को एक के बाद एक दो बड़ा झटका लगा है। सबसे लंबे समय तक असम के सीएम रहे तरुण गोगोई के बाद अब पार्टी के वरिष्ठ नेता और सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल  (Ahmed Patel) का निधन हो गया है। 71 साल के अहमद पटेल  (Ahmed Patel Death) पिछले एक महीना से  कोरोना से संक्रमित थे। उनका गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में इलाज चल रहा था,  लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद उन्हें (Ahmed Patel Passes Away) नहीं बचाया जा सका।

कांग्रेस के ‘चाणक्य’ माने जाने वाले अहमद पटेल के निधन पर पार्टी अध्यक्ष  सोनिया गांधी ने  शोक जताते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं। सोनिया गांधी ने लिखा, ‘अहमद पटेल के रूप में मैंने एक सहयोगी को खो दिया है, जिसका पूरा जीवन कांग्रेस पार्टी को समर्पित था।  उनकी ईमानदारी और समर्पण, अपने कर्तव्य के प्रति उनकी प्रतिबद्धता, वह हमेशा मदद करने के लिए तैयार रहते थे।  उनकी उदारता दुर्लभ गुण थे, जो उन्हें दूसरों से अलग करते थे।’

उन्होंने आगे लिखा, ‘मैंने एक अपरिवर्तनीय कॉमरेड, एक वफादार सहयोगी और एक दोस्त खो दिया है। मैं उनके निधन पर शोक व्यक्त करती हूं और मैं उनके शोक संतप्त परिवार के लिए संवेदनाएं व्यक्त करती हूं।’

आपको बता दें कि अहमद पटेल ने वर्षों तक सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार के तौर पर काम किया और माना जाता है कि वह उनके द्वारा लिए गए हर महत्वपूर्ण निर्णय का हिस्सा थे। गौरतलब है कि सोनिया गांधी फिलहाल गोवा में स्वास्थ्य लाभ ले रही हैं। बताया जा रहा है कि तबीयत खराब की वजह से सोनिया गांधी अहमद पटेल के अंतिम दर्शन नहीं कर पाएंगी।

सोनिया गांधी समेत कांग्रेस के साथ साथ देश के तमाम बड़े नेताओं ने अहमद पटेल के निधन पर शोक जताया है। आपको बता दें कि गुजरात से आने वाले अहमद पटेल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव थे। वे एकमात्र ऐसे व्यक्ति थे, जिनका 10 जनपथ में सीधा आना-जाना था। वे सोनिया-राहुल के वफादार होने के साथ ही पार्टी में सबसे कद्दावर राजनेता भी थे। कांग्रेस आलाकमान के निर्देशों और संकेतों को उन्हीं के जरिए दूसरे बड़े नेताओं तक पहुंचाया जाता था।

अहमद पटेल तीन बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं। 5 बार राज्यसभा के सांसद रहे। अहमद पटेल पहली बार 1977 में 26 साल की उम्र में भरूच से लोकसभा का चुनाव जीतकर  संसद पहुंचे थे। वे 1993 से राज्यसभा सांसद थे। अगस्त 2018 में उन्हें कांग्रेस पार्टी का कोषाध्याक्ष नियुक्त किया गया था। हमेशा पर्दे के पीछे से राजनीति करने वाले अहमद पटेल कांग्रेस परिवार के विश्वस्त नेताओं में गिने जाते थे।


bhupendra

Next Post

Coronavirus: गृह मंत्रालय ने जारी की 1 दिसंबर से लागू होने वाली कोरोना की नई गाइडलाइन

Thu Nov 26 , 2020
Coronavirus: गृह मंत्रालय ने जारी की 1 दिसंबर से लागू होने वाली कोरोना की नई गाइडलाइन       नई दिल्‍ली: देश में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए गृह मंत्रालय ने एक दिसंबर से लागू होने वाली अनलॉक प्रक्रिया के लिए नई गाइडलाइंस जारी की हैं। दिशानिर्देशों का मुख्य फोकस […]

Breaking News